समय की महत्ता - बहुउद्देशीय परमपूज्य परमात्मा एक सेवक मंडळ मोहाडी

Breaking

शुक्रवार, ११ जून, २०२१

समय की महत्ता

समय की महत्ता

       
 बाबा ने परमेश्वरी कृपा प्राप्त करने पर भी उनके परिवार के लोग हिन्दु धर्म में प्रचलित सभी देवों को मानते थे । उनकी पूजा करते थे । सभी त्यौहार मनाते थे, एकादशी, चतुर्थी इन दिनोमें उपवास करते थे।

        श्री बाळकृष्ण एवं नारायणराव इनके घर ग्यारह दिन के हवन कार्यक्रम के दौरान भारतीय संवत् पौष माह शुरू था। इस हवनकी कालावधी में ही वद्य चतुर्थी आयी थी वह १९४६ के जनवरी माह की बीस तारीख रविवार दिन था । यह चतुर्थी हिन्दुओं में प्रमुख चुतुर्थीयों में से एक मानी जाती है। वैदिक दृष्टीसे इस दिन का बड़ा महत्व है ऐसा समझा जाता है । इस दिन बाबा के परिवार की महिलाओं को उपवास था हवन समाप्त होते-होते रात में बहुत देर हो जाती थी । सामान्यतः ग्यारह बजते थे। इसलिए घर के पुरूष मंडलीने बाबा से बिनती की की, आज स्त्रियों को निर्जला उपवास है और रात के ग्यारह बजे हवन समाप्त होगा । जिससे उन्हे भोजन करने में बहुत देरी होगी। इस कारण उन्हें रात को अधिक देर तक भूखा रहना होगा। इसलिए हमारी ऐसी विनती है की, पहले भोजन करके फिर हवन में जाये। इससे स्त्रियों को परेशानी नही होगी। बाबांने उनका कथन शांततापुर्वक सुन लिया एवं स्वयंही ऐसा विचार किया कि । भगवान की पूजा बाद में भी की, तो क्या फर्क पडेगा। परमेश्वर को पसंदीदा कार्य करना यही सच्ची परमेश्वर की आराधना है। ऐसा मन में सोचकर उनकी बिनती को उन्होने अनुमति दी । सायंकाल में भोजन समाप्ति के पश्चात हवन कार्य करने वे अपने जेष्ठ बंधु के यहाँ गये। उन्हे हवन प्रारंभ करने में वस्तुतः बहुत देर हुई थी।

        हवन समाप्त कर बाबा घर आये । बाबा का आराम करने का एक अलगही १६x३० का कमरा था । उस कमरे में बाबा अकेले सोते थे । हमेशा की तरह बाबा मन में कुछ भी विचार न लाते कमरे का व्दार बंद कर के सो गये । सामान्यतः अर्ध रात्री पश्चात एक-दो बजे के आसपास बाबा चोर चोर कहकर जोर जोर से चिल्लाने लगे। उनकी आवाज सुनकर पास ही कमरे मे सोने वाले लोगों की नींद खुली सभी पुरूष लोग जाग गये । वे बाबा के कमरे की ओर दौडते आये और देखा कि कमरेका व्दार बंद है। और बाबा नींद मे जोर जोर से चिल्ला रहे थे उन्होने बाबा को
जगाया और पुछा कि चोर कहाँ है । कमरे को दूसरा दरवाजा था । उस ओर जाकर देखा तो वह व्दार भी बंद था । उन्होने बाबा से पुछा “आप चोर चोर क्यो चिल्ला रहे है ?" यह सुन बाबा समझ गये कि वे सपने मे थे । अपने यहाँ कोई भी चोर नही आया । इससे पहले वे सपने में ही बडबडाये कि, मैने अपने दाहिने पंजे में चोर को पकड रखा है। वह पंजा कसकर पकडे हुए पेट पर है, वह भागने को छटपटा रहा है, यह देखते हुए उन्हे घर के लोगो की आवाजें
आयी, और वे उठ बैठे, उन्होने कमरे के चारों ओर देखा ।

        उन्होने घर के लोंगो को वहाँ खडे पाया। इसके अलावा उन्हें कुछ भी नही दिखा। वे (बाबा) उन्हें बताने लगे की “मेरे शरीर से बहुत से वानर भिडे हुए थे । मैं जिधर करवट बदलता उधर वे मेरे शरीर से दब जाते थे। उनमें से एक वानर जो प्रमुख लगता था वह मेरी पेट पर बैठा था । वे सब मेरे शरीर से खेलकर भागने की तैयारी में थे। इसलिए मैंने उस मुख्य वानर का एक पैर दाहिने पंजे में कसकर पकडा वह भागने की बहुत कोशिश कर रहा था। मुझे ऐसा लगा कि यही बाबा हनुमानजी है और वह मुझे छोडकर जा रहे है। इसके अतिरिक्त उन्होने कुछ नहीं बताया और उन्हें अपने कमरे में वापस जाने को कहा, सभी लोग अपने-अपने कमरे मे जाने के बाद बाबा आराम से सो गये।

        दुसरे दिन बाबाने घर के सभी लोगों को इकट्ठा बुलाया और उन्हें रात में घटित घटनाचक्र के बारे में सविस्तर बताना प्रारंभ किया ।

        कल रात खाना खाने के बाद हवनकार्य देर से शुरू किया। नित्य का निश्चित समय टल गया था । इससे बाबा हनुमानजी नाराज हुए थे । उन्होने मुझे सपने में दर्शन दिया । वे अपने व्दार पर आकर वही खडे रहे । तब मैं मेरे कमरे में सोया था । वे बोले “मैं तेरे बाप का नौकर नही हूँ । मैं समय पर आया हूँ । भूखा प्यासा मै तेरे व्दार पर खडा हूँ । और तू खाना खा रहा है। इतना कहकर वे वानर सेना लेकर मेरे शरीर से भिडे और उस वानरसेना के साथ
मेरे शरीर से खेलकर वे चलते बने । तब मैंने बाबा हनुमानजी के पैर पकडे और क्षमा मांगी । वह जाने की जल्दी कर रहे थे । परंतु मैंने उन्हें छोडा नही इस पर मैंने पूरा सोच-विचार किया तो मुझे ऐसा लगता है कि, परमेश्वर सही समयपर दौडकर आता है। हमारा निर्धारित समय यह उसका ही समय होता है। इसलिए समस्त कार्य समय पर करें । आज जो परिस्थिती उजागर हुई उससे परमेश्वरी कृपा से बहुत दूर जाना पड़ सकता था। मैंने उन्हें क्षमा मांगी और परमेश्वर को पास रखा है । तथापि आप सब इससे आगे इसका ध्यान रखें ऐसा परिवार जनों को उन्होने उपदेश किया ।

        इससे यह सिध्द होता है कि समय का कितना महत्व हैं। हम हमेशा देखते है कि बाबा अपने सभी कार्य समयपर करते है और समयसीमा का पूर्ण रूपसे पालन करते है आओ हम भी इससे समय सीमा में बंधने का व्रत लें ।


|| 🙏🙏नमस्कार जी 🙏🙏||


!*******************************************************************************!

कोणत्याही टिप्पण्‍या नाहीत:

टिप्पणी पोस्ट करा

WebSite Developer & Designer
©✍ Laxman Mahule
☎️ 8007477425
mahulelaxman@gmail.com

Pages